July 23, 2024

साप्ताहिक यज्ञ के पांचवे दिन श्री कृष्ण के बाल्य अवस्था के कथा का रसपान किये श्रद्धालु

Spread the love

साप्ताहिक यज्ञ के पांचवे दिन श्री कृष्ण के बाल्य अवस्था के कथा का रसपान किये श्रद्धालु

कथा के बीच पहुचे बघौचघाट के थानेदार संतो का किया माल्यर्पण

बघौचघाट देवरिया।। जनपद देवरिया विकास खण्ड पथरदेवा के ग्राम सभा सखिनी मे हो रहे साप्ताहिक यज्ञ का आज 5 वा दिन रहा। आज दिन गुरुवार को आचार्य श्री नरदेव गिरि ने श्रीकृष्ण के बाल्य लीला का वर्णन किया उन्होंने ने कहा कि बाल्य अवस्था मे श्री कृष्ण बहुत नटखट थे। वह माता यशोदा को बहुत परेशान किया करते थे। भगवान श्रीकृष्ण को मारने के लिए दैत्य कंस बहुत माया रचता था। वह अनेको राक्षस को भेजता रहता था। उसने पुतना को भी श्री कृष्ण को विषपान कराने के लिए एक सुंदर स्त्री का रूप धारण कर वृंदावन में भेजा था। मौका पाकर पुतना ने बालकृष्ण को उठा लिया और स्तनपान कराने लगी। श्रीकृष्ण ने स्तनपान करते-करते ही पुतना का वध कर दिया। आगे कहा कि पूतना नाम की एक बड़ी क्रूर राक्षसी थी। उसका एक ही काम था- बच्चों को मारना। कंस की आज्ञा से वह नगर, ग्राम और अहीरों की बस्तियों में बच्चों को मारने के लिए घूमा करती थी। जहाँ के लोग अपने प्रतिदिन के कामों में राक्षसों के भय को दूर भगाने वाले भक्तवत्सल भगवान के नाम, गुण और लीलाओं का श्रवण, कीर्तन और स्मरण नहीं करते, वहीं ऐसी राक्षसियों का बल चलता है। वह पूतना आकाशमार्ग से चल सकती थी और अपनी इच्छा के अनुसार रूप भी बना लेती थी। एक दिन नन्दबाबा के गोकुल के पास आकर उसने माया से अपने को एक सुन्दर युवती बना लिया और गोकुल के भीतर घुस गयी। उसने बड़ा सुन्दर रूप बनाया था। उसकी चोटियों में बेले के फूल गुँथे हुए थे। सुन्दर वस्त्र पहने हुए थी। जब उसके कर्णफूल हिलते थे, तब उनकी चमक से मुख की ओर लटकी हुई अलकें और भी शोभायमान हो जाती थीं। उसके नितम्ब और कुच-कलश ऊँचे-ऊँचे थे और कमर पतली थी। वह अपनी मधुर मुस्कान और कटाक्षपूर्ण चितवन से ब्रजवासियों का चित्त चुरा रही थी।
उस रूपवती रमणी को हाथ में कमल लेकर आते देख गोपियाँ ऐसी उत्प्रेक्षा करने लगीं, मानो स्वयं लक्ष्मीजी अपने पति का दर्शन करने के लिए आ रही हैं। पूतना बालकों के लिए ग्रह के समान थी।
वह इधर-उधर बालकों को ढूंढती हुई अनायास ही नन्दबाबा के घर में घुस गयी। वहाँ उसने देखा कि बालक श्रीकृष्ण दुष्टों के काल हैं। परन्तु जैसे आग राख की ढेरी में अपने को छिपाये हुए हो, वैसे ही उस समय उन्होंने अपने प्रचण्ड तेज को छिपा रखा था।
भगवान श्रीकृष्ण चर-अचर सभी प्राणियों की आत्मा हैं। इसलिए उन्होंने उसी क्षण जान लिया कि यह बच्चों को मार डालने वाला पूतना-ग्रह है और अपने नेत्र बंद कर लिये। जैसे कोई पुरुष भ्रमवश सोये हुए साँप को रस्सी समझकर उठा ले, वैसे ही अपने कालरूप भगवान श्रीकृष्ण को पूतना ने अपनी गोद में उठा लिया।
मखमली म्यान के भीतर छिपी हुई तीखी धार वाली तलवार के समान पूतना का हृदय तो बड़ा कुटिल था, किन्तु ऊपर से वह बहुत मधुर और सुन्दर व्यवहार कर रही थी। देखने में वह एक भद्र महिला के समान जान पड़ती थी। इसलिए रोहिणी और यशोदा ने उसे घर के भीतर आयी देखकर भी उसकी सौन्दर्यप्रभा से हतप्रभ-सी होकर कोई रोक-टोक नहीं की, चुपचाप खड़ी-खड़ी देखतीं रहीं। इधर भयानक राक्षसी पूतना ने बालक श्रीकृष्ण को अपनी गोद में लेकर उनके मुँह में अपना स्तन दे दिया, जिसमें बड़ा भयंकर और किसी प्रकार भी पच न सकने वाला विष लगा हुआ था।
भगवान ने क्रोध को अपना साथी बनाया और दोनों हाथों से उसके स्तनों को जोर से दबाकर उसके प्राणों के साथ उसका दूध पीने लगे।अब तो पूतना के प्राणों के आश्रयभूत सभी मर्मस्थान फटने लगे। वह पुकारने लगी- ‘अरे छोड़ दे, छोड़ दे, अब बस कर।’ वह बार-बार अपने हाथ और पैर पटक-पटक कर रोने लगी। उसके नेत्र उलट गये। उसका सारा शरीर पसीने से लथपथ हो गया। उसकी चिल्लाहट का वेग बड़ा भयंकर था। अंत मे वह मर गयी। कथा के बीच मे बघौचघाट थाने के थाना प्रभारी मिर्तुंजय राय व कांस्टेबल राजीव कुमार, विनय कुमार पहुचे इस बीच थाना प्रभारी ने कथा वाचक आचार्य नरदेव गिरि, महंथ अवधूत गिरि का माल्यार्पण किया एवं कथा का रसपान श्रद्धालुओं के साथ बैठकर किये।

 

134400cookie-checkसाप्ताहिक यज्ञ के पांचवे दिन श्री कृष्ण के बाल्य अवस्था के कथा का रसपान किये श्रद्धालु