सरकार का शुद्ध पेयजल मुहैया कराने का दावा विभागीय लापरवाही

Spread the love

अमिट रेखा- राज सिंह
पडरौना – कुशीनगर।

सरकार का शुद्ध पेयजल मुहैया कराने का दावा विभागीय लापरवाही से पूरा नहीं हो पा रहा है। जिले के अधिकतर गांवों में ओवर हेड टैंक शोपीस बने हुए हैं, वहीं तमाम इंडिया मार्क हैंडपंप खराब हैं। लोग छोटे देसी हैंडपंपों का दूषित पानी पीने को विवश हैं।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हाटा विकास खंड के खड्डा, तुर्कवलिया, रामबर चरगहां, डुमरी चुरामन छपरा, नकहनी, तमासपुर, रामपुर पट्टी, कुरहवां, चेगौंना, भठही आदि गांवों में लगे हैंडपंप वर्षों से दूषित जल दे रहे हैं। इसकी शिकायत प्रधान, सचिव, एडीओ पंचायत से लेकर सीएम के जनसुनवाई पोर्टल पर की गई, लेकिन अब तक पंप ठीक नहीं हुए। भैंसही के जूनियर व प्राइमरी विद्यालय परिसर में लगे हैंडपंप खराब हो गए हैं। राजेश कुमार, दिनेश यादव, मनोज कुमार, सुरेश कुमार, सुरेंद्र सिंह, नंदलाल, कन्हैया ने हैंडपंपों को ठीक कराने की मांग की है। पेयजल को तरस रहे लोग पिपरा बाजार विकास खंड विशुनपुरा के पिपरा बुजुर्ग गांव में जल निगम के ओवरहेड टैंक से अब तक जलापूर्ति नहीं शुरू हो सकी है। इससे लोगों के समक्ष पेयजल का संकट खड़ा हो गया है। करीब सात हजार की आबादी वाले इस गांव के लोग मजबूरी में देसी हैंडपंप का पानी पी रहे हैं। महेश रौनियार, नन्हें जायसवाल, राजेश यादव, श्रवन यादव, नत्थू मद्धेशिया, तारा कुशवाहा, हरिद्र कुशवाहा, काशीनाथ गौतम, हरिशचंद्र तिवारी, अनिल रौनियार ने शीघ्र जलापूर्ति शुरू कराने की मांग की है।

पड़ौली में शुरू नहीं हो सकी जलापूर्ति

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कप्तानगंज विकास खंड के पड़ौली गांव में जल निगम की ओर से ओवरहेड टैंक बनाया गया है। पाइप बिछा दी गई है, लेकिन जलापूर्ति शुरू नहीं की जा रही है। गेट पर ताला लगा रहता है, ओवरहेड टैंक बनने के पांच वर्ष बाद भी लोगों को पेयजल उपलब्ध नहीं कराया जा सका। गांव के राजकुमार पांडेय, ग्राम प्रधान शोभी पासवान, अशोक, धीरज, अनुभव आदि ने शीघ्र जलापूर्ति शुरू कराने की मांग की है।

6390cookie-checkसरकार का शुद्ध पेयजल मुहैया कराने का दावा विभागीय लापरवाही