श्रीमद्भागवत कथा का अनुसरण करने से दूर होता दुःख व कष्ट: विधायक रजनीकान्त मणि त्रिपाठी

Spread the love

कृष्ण-सुदामा मिलन की कथा सुन भावविभोर हुए श्रोता

अमिट रेखा / दुर्गा दयाल /कुबेर स्थान/ कुशीनगर

विकासखण्ड तमकुही के ग्राम पंचायत बरवा सुकदेव स्थित ब्रह्मस्थान परिसर में चल रहे श्रीमद्भागवत कथा में कृष्ण- सुदामा की मित्रता का वर्णन करते हुए कथावाचक इंद्रजीत मिश्र ने कहा कि कृष्ण- सुदामा की मित्रता वास्तव में आत्मा और परमात्मा का समागम, जीव व ईश्वर तथा भक्त और भगवान का मिलन था।जिस आदर्श को कृष्ण-सुदामा ने प्रस्तुत किया आज मनुष्य को ऐसा ही आदर्श प्रस्तुत करना चाहिए।
श्री मिश्र ने कहा कि आज कृष्ण और सुदामा जैसी सच्ची मित्रता के बजाय स्वार्थ की मित्रता है जिसकी पूर्ति के लिए लोग समर्थवान से मित्रता स्थापित कर रहे हैं इसीलिए समाज में विसंगति बढ़ रही है।

इसके पूर्व कथा का शुभारम्भ कुशीनगर के विधायक रजनीकान्त मणि त्रिपाठी ने फीता काटकर किया।इस अवसर पर उन्होंने कहा कि श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण कर सत्यचित मन से अनुसरण कर लें तो जीवन में कभी कठिनाई व दुःख का अनुभव नहीं होगा। इस दौरान भाजपा जिला उपाध्यक्ष दुर्गेश राय, मुख्य आयोजन कर्ता मुन्ना राय, धीरज मिश्र, अखिलेश चौहान,विद्या राय, पंकज राय, बल्मिकी राय व राजधारी चौहान सहित अधिक संख्या में गाँव की महिलाएं व पुरुष मौजूद रहे।

76410cookie-checkश्रीमद्भागवत कथा का अनुसरण करने से दूर होता दुःख व कष्ट: विधायक रजनीकान्त मणि त्रिपाठी