July 16, 2024

पुलिस कप्तान के शस्त्र प्रशिक्षण में फेल हुए थानेदार रामसहाय चौहान को एक बार फिर मिला मलाईदार थाना, चर्चाओ का बाजार गर्म

Spread the love

अमिट रेखा सुनील पांडेय
ब्यूरो महराजगंज

महाराजगंज– मेरे चैनल द्वारा चलाई गई मुहिम का हुआ बड़ा असर की आखिर डीआईजी के आदेशों के बाद भी क्यों नही थानाध्यक्ष रामसहाय चौहान को रिलीव कर रहे पुलिस कप्तान महाराजगंज जिसको संज्ञान में लेते हुए कप्तान प्रदीप गुप्ता ने गुरुवार को देर शाम कोल्हुई थाना पर 15 महीनों से तैनात थानाध्यक्ष रामसहाय चौहान का विकेट गिरा दिया और ठूठीबारी भेज दिया लेकिन गैर जनपद नही भेजे। गौरतलब हो थानाध्यक्ष रामसहाय चौहान पिछले डेढ़ साल से कोल्हुई थाने पर जमे हुए थे इस दौरान इनके बड़े बड़े कारनामे सामने आए है जिसके वजह से हमेशा थानाध्यक्ष विवादों में रहे है। क्षेत्रवासियों द्वारा बताया गया थानाध्यक्ष जबसे उक्त थाने पर आए है किसी भी मामले का निस्तारण समुचित ढंग से नही हुआ वही इनपर पैसा लेकर फ़र्ज़ी कार्यवाही का भी जबरजस्त आरोप है। मेरे संवाददाता के अनुसार रामसहाय चौहान वही दरोगा है जिनपर कोल्हुई ग्रामीणों द्वारा मटर की तस्करी कराने का गंभीर आरोप लगाया गया था जिससे खुन्नस खाये आधी रात को दरोगा द्वारा ग्रामीणों व समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता गुड्डू उपाध्याय पर ताबड़तोड़ लाठिया बरसाई गई थी जिसका वीडियो सीसीटीवी कैमरे में कैद है वही थानाध्यक्ष पर कस्बे के कई मासूमो को चोरी के फ़र्ज़ी मुकदमे में फंसाकर जेल भेजने का भी आरोप लगाया जा चुका है जिसकी शिकायत मुख्यमंत्री व डीजीपी उत्तर प्रदेश से की गई थी। सूत्रों के मुताबिक रामसहाय चौहान के विगत 15 महीने के कार्यकाल में निरंतर बाइक व चारपहिया चोरी ,लूट ,तस्करी,छेड़छाड़ सहित अन्य गंभीर अपराध के लगभग सैकड़ो मामले सामने आये लेकिन किसी भी मामलो का निस्तारण उचित ढंग से नही किया गया अर्थात फ़र्ज़ी कार्यवाही कर बिना बरामदी के खुलासा कर दिया गया तथा खुलासा के नाम पर दो चार बाइक समेत अंतरराष्ट्रीय गिरोह बताकर अपनी पीठ थपथपा ली गई लेकिन दर्जनों बाइक अभी भी वाहन स्वामियों तक नही पहुँच सका। आप को बता दे अभी तक के इतिहास में इनके कार्यकाल में कोल्हुई क्षेत्र में जितना अपराध हुआ है उतना कभी नही हुआ वही ताज़ा मामला सना जेवेलर्स दुकानदार के अनुसार दुकान में हुए 20 लाख के चोरी का भी खुलासा फ़र्ज़ी किया गया था सिर्फ लगभग डेढ़ लाख के समान की बरामदी दिखाकर वाहवाही लूट लिया गया जिससे क्षेत्र में कोल्हुई पुलिस की जमकर किरकिरी हुई थी। बताते चले मासूमो को अपराधी बनाने में माहिर थानाध्यक्ष अपने निसफल कार्यप्रणाली को लेकर अखबारों में हमेशा छाए रहते है जबकि कई मामलों में भीगी बिल्ली बनते हुए नजर आए जैसे शिकारगढ़ मामले में हुए दो पक्षो के मारपीट में थानाध्यक्ष द्वारा ब्राह्मण परिवार को प्रताड़ित किया गया साथ ही पीड़ित शेषनाथ द्विवेदी व उनके भाई का शिखा उखाड़ने की बात कही गयी जिससे क्षुब्ध होकर पीड़ित शेषनाथ द्विवेदी जमीन पर गिर गए थे तत्पश्चात सैकड़ो ग्रामीण पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की थी वही मामला बिगड़ता देख थानाध्यक्ष रामसहाय चौहान मौके से पीड़ित वृद्ध को अस्पताल ले जाने के बजाय मौके से पतली गली निकल लिए जिससे आक्रोशित ब्राह्मण समाज के लोगो ने भी इनकी घोर निंदा की थी वही उक्त मामले के बाद रामसहाय चौहान को जब लगा कि मलाईदार थाना से टिकट काटनेवाला है वह एक बार फिर क्षेत्रवासियो पर आतंक बरसाने लगे और चुनावी समय में क्षेत्र में अपना साख बचाये रखने के लिए कस्बे के व्यपारियो पर लाठी चार्ज करना शुरू कर दिया वही इस संबंध में जिला पंचायत सदस्य दीपक पांडेय ने भी बताया व्यपारियो के साथ साथ रामसहाय चौहान द्वारा चुनावी रंजिश को लेकर एकतरफा कार्यवाही करते हुए कई जनप्रतिधियों समेत मेरे खिलाफ भी फ़र्ज़ी मुकदमा दर्ज कर लिया गया जिससे कही न कही क्षेत्र के लोगो का पुलिस प्रशासन पर से विश्वास उठता हुआ नजर आ रहा। ज्ञात हो अभी 2 दिन पहले थानाध्यक्ष द्वारा किये गए हरीश हत्याकांड के खुलासे का भी क्षेत्रवासियों द्वारा संदेह जताया जा रहा है। जानकारी के लिए बता दे उक्त थानाध्यक्ष रामसहाय चौहान वही दरोगा है जिनसे कप्तान के शस्त्र प्रशक्षिण में पिस्तौल नही खोली गई थी जो कि इनके प्रक्षिक्षण और अनुभव पर सवाल उठाता है। ऐसी स्थिति में आखिर किस आधार पर उक्त दारोगो को एक बार फिर मलाईदार थाना कोतवाली ठूठीबारी का सौगात मिला जबकि उक्त दरोगा का जनपद में पांच साल पूरा हो गया है जिसे मद्देनजर इनका तबादला गैर जनपद में डीआईजी द्वारा चार महीने पहले कर दिया गया था, क्या डीआईजी के आदेशो को नही मानती महाराजगंज पुलिस उक्त विषय पर महाराजगंज जिले में चारो तरफ चर्चा का माहौल बना हुआ है। इस संबंध में महाराजगंज पुलिस कप्तान प्रदीप गुप्ता द्वारा बताया गया अभी तक रिलीव नही किया गया इसलिए महाराजगंज में ही तैनाती दी गई है।

62870cookie-checkपुलिस कप्तान के शस्त्र प्रशिक्षण में फेल हुए थानेदार रामसहाय चौहान को एक बार फिर मिला मलाईदार थाना, चर्चाओ का बाजार गर्म