ईश्वरीय प्रकोप ने बूढ़े पिता को कंधा लगाने पर किया मजबूर

Spread the love

ईश्वरीय प्रकोप ने बूढ़े पिता को कंधा लगाने पर किया मजबूर

35 वर्षीय पुत्र की अर्थी उठने पर पिता के आखों से बह गई सागर धारा

अमिट रेखा ब्यूरो, देवरिया। विधानसभा पथरदेवा थाना बघौचघाट निवासी पूर्व कैबिनेट मंत्री ब्रह्मा शंकर त्रिपाठी के पीआरओ बैजनाथ मिश्र 75 वर्षिय के पुत्र दुर्गेश मिश्र 35 वर्षीय की मौत अचानक हार्ट अटैक के कारण हो गई। समाजसेवी दुर्गेश के मौत की खबर की सूचना किसी को विश्वास में नही ले रही थी। परन्तु ईश्वरीय प्रकोप ने सबको विश्वास करने पर मजबूर कर दिया। बुजुर्ग पिता 75 वर्षीय श्री बैजनाथ मिश्र की आखों से सागर की धारा बह गई। अर्थी को कंधा देते पिता की रूह कांप उठी। अपने पुत्र के अंतिम संस्कार करने को लेकर पिता ने इतना रोया मानो जैसे सागर की धारा बह रही हो। परिवार के लोग दुर्गेश मिश्र की सजी चिता को देखकर ईश्वर से गुहार लगा रहे थे। कि कब दुर्गेश चिता से उठ जाता। परन्तु सत्य तो यही है जो इस संसार से चला जाता है वह पुनः वापस नही आता है। कुछ ही छड़ो में चिता की आग जलने लगी और लोग श्मशान घाट पर पिता को समझने और उनके दुख को बांटने में लग गए।
समाजसेवी दुर्गेश मिश्र की मौत की खबर लखनऊ तक गुज उठी और फिर दरवाजे पर उनके चाहने वालो की कतारें लग गई। इस दुःखद पल में समाजवादी पार्टी के पूर्व कैबिनेट मंत्री बह्मा शंकर त्रिपाठी , भाजपा के प्रदेश कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, नर्मदेश्वर महादेव मंदिर मेंदीपट्टी के अध्यक्ष सुरेंद्र लाल श्रीवास्तव सहित हजारों नेता व समाजसेवी उपस्थित होकर श्री मिश्र के परिवार से मिलकर मृतक आत्मा के प्रति शोक संवेदना प्रकट की।

 

156320cookie-checkईश्वरीय प्रकोप ने बूढ़े पिता को कंधा लगाने पर किया मजबूर