आरोपियों को बचाने के लिए घूस लेने वाला कांस्टेबल निलंबित

Spread the love


देवरिया

कुकर्म के आरोपियों को शांतिभंग में चालान करने के लिए आरोपियों के परिजनों से रुपये लेने वाले कांस्टेबल को एसपी ने शुक्रवार को निलम्बित कर दिया। कांस्टेबल से एसपी ने गुरुवार की रात तलब कर पूछताछ की थी।

भाटपाररानी थाना क्षेत्र के एक गांव में बालक के साथ कुकर्म मामले में चार लोगों के विरुद्ध पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था। इस मामले में दो आरोपियों को पिछले दिनों हिरासत में लेकर पुलिस ने पूछताछ शुरू की। इसके बाद एक पुलिसकर्मी ने आरोपियों की मदद करने के लिए रुपये की मांग की। उसने आरोपियों के परिजनों और उनके अधिवक्ता को आश्वस्त किया कि उनका सिर्फ शांतिभंग में चालान किया जाएगा। परिजनों से रुपये लेने के बावजूद भाटपाररानी पुलिस ने आरोपियों को धारा 377 आईपीसी में मुकदमा दर्ज कर चालान कर दिया। इस पर अभियुक्तों के अधिवक्ता ने पुलिसकर्मी से लिए गए रुपये वापस करने की बात फोन पर की। पुलिसकर्मी और अधिवक्ता की बात किसी ने वायरल कर दी। वायरल ऑडियो में आरोपियों की मदद की बात पुलिसकर्मी कर रहा है। साथ ही रुपये लेने की बात भी स्वीकार कर रहा है। ऑडियो वायरल होने पर एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र ने मामले को गंभीरता से लेते हुए गुरुवार की रात कांस्टेबल को तलब किया। मिली जानकारी के अनुसार एसपी ने कांस्टेबल से वायरल ऑडियो के बारे में पूछताछ की तो उसने रुपये लेना स्वीकार किया। इसके बाद एसपी ने कांस्टेबल प्रदीप सिंह को निलम्बित कर दिया।

वायरल ऑडियो में कांस्टेबल ने रुपये लेने की बात स्वीकार की थी। इस प्रकरण में भाटपाररानी में तैनात कांस्टेबल को निलम्बित कर दिया गया है। इस तरह का कृत्य क्षम्य नहीं है।

46020cookie-checkआरोपियों को बचाने के लिए घूस लेने वाला कांस्टेबल निलंबित