तरया सुजान पुलिस द्वारा शराब तस्करी के खुलासे की मजिस्ट्रेट जांच कराने की मांग

Spread the love

तमकुही राज तहसील क्षेत्र के पत्रकारों ने लोक निर्माण विश्राम गृह डाक बंगला में बैठक कर मुख्य मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार को संबोधित उप जिलाधिकारी तमकुही राज को ज्ञापन सौंपा

अमिटरेखा/ कृष्णा यादव तहसील प्रभारी
तमकुही राज -कुशीनगर

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार तमकुही राज तहसील परी क्षेत्र के पत्रकार बंधुओं की एक आवश्यक बैठक पत्रकार शिव शंकर सिंह सूर्यवंशी की अध्यक्षता में तमकुही राज स्थित पीडब्ल्यूडी डाक बंगले पर संपन्न हुई बैठक को संबोधित करते हुए सूर्यवंशी ने कहा कि पुलिस की मित्रता पत्रकार को भारी कीमत चुकानी पड़ी। पुलिस ने एक सोची-समझी कूटनीति की तहद पटहेरवा थाने में शंभू सिंह को 26 जुलाई की शाम को बुलाकर उनके मोबाइल से शराब तस्करों से बातचीत की पुलिस की मिली भगत से शराब की तस्करी का खेल खेला गया तथा शंभू सिंह को बलि का बकरा बनाते हुए मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेज दिया गया है इस प्रकरण पर उपस्थित पत्रकारों में गहरा आक्रोश देखा गया एक स्वर से उपस्थित पत्रकारों ने मजिस्ट्रेट जांच कराने की प्रस्ताव पारित कर उप जिलाधिकारी तमकुहीराज के माध्यम से उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री को ज्ञापन पत्र भेजा है।
ज्ञापन पत्र के माध्यम से पत्रकारों ने मुख्यमंत्री माननीय योगी जी से आग्रह किया है कि दिनांक 27 जुलाई 2021 को तरयासुजान थाने में कुट रचित ढंग से शराब तस्करी के खुलासे में पुलिस द्वारा अपने विभाग के दागदार पुलिसकर्मी अधिकारी को बचाने के लिए पत्रकार शंभू सिंह को फसाने का काम किया गया है इस खुलासे की मजिस्ट्रेट जांच की मांग करते हुए ज्ञापन में निम्न बिंदुओं को आरोपित किया है की खुलासे के दिन बरामद शराब पटहेरवा थाने से एक पुलिस अधिकारी के आवासी रूम से तस्करों के हाथों बेचा गया जिसकी आम चर्चा है पैसे के लेनदेन के लिए पुलिस अधिकारी अपने मित्र पत्रकार को एनएच 28 पर भेज कर फंसाने का काम किया है जिसे ले जाकर शराब की बरामदगी तरया सुजान थाना क्षेत्र में दिखाई गई है पत्रकारों का आरोप है कि इतनी भारी तादात में पटहेरवा थाने में अवैध शराब किसके संरक्षण में रख कर वहां से तस्करों को बेचा जाता था पत्रकार शंभू सिंह को 26 जुलाई की रात मोबाइल पर पटहेरवा थाने पर बुलाया गया और वहां से हिरासत में लेकर उसी रात तरया सुजान थाने भेज दिया गया तथा 27 जुलाई को घटना की खुलासा दिखाकर मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेज दिया गया है क्षेत्र में यह चर्चा है कि बीते दिनों पटहेरवा थाना क्षेत्र के झरही नाले के पास से 1200 पेटी अवैध शराब पटहेरवा पुलिस ने बरामद किया लेकिन उसे लिखा पढ़ी में कहीं नहीं लाया गया मात्र २००पेटीदिखाया गया, पटहेरवा पुलिस ने उसी शराब को तस्करो से बेच रही थी पत्रकार शंभू सिंह पुलिस अधिकारी के अति नजदीकी होने के कारण इस शराब तस्करी की पूरी स्क्रिप्ट तैयार कर अपने पास रख लिए थे जो पुलिस को बार-बार खटक रही थी इन आरोपों को लगाते हुए पत्रकारों ने पुलिस के कूट रचित एवं शराब तस्करी खुलासे पर आक्रोश व्यक्त करते हुए माननीय मुख्यमंत्री जी से यह अपेक्षा की है कि वह इस पूरे प्रकरण की मजिस्ट्रेट टिक जांच कराकर जो भी दोषी हो उसके बिरुद्ध कार्रवाई करने की मांग की है ।
बैठक में पत्रकार कृपा शंकर यादव रमेश चंद यादव हारुन अंसारी राजेश यादव शकील अहमद सुनीत कुमार रवीश कुमार मद्धेशिया कृष्णा यादव अशोक राय सुरेंद्र नाथ दिवेदी शिव शंकर सिंह सूर्यवंशी अशोक मिश्रा रमाशंकर सिंह शैलेश कुमार बंटी निशांत गुप्ता मुमताज हाशमी संदीप यादव राजेश कुमार दुबे सोहेब खान विकास पांडे अशोक द्विवेदी सुरेंद्र प्रसाद गौड़ हरि गोविंद चौबे भगवान जी तिवारी विजय कुमार जितेंद्र कुमार तिवारी असगर हुसैन शहजाद आलम वरिष्ठ पत्रकार ओमप्रकाश सिंह श्री प्रकाश मिश्रा स्वतंत्र चेतना आदि पत्रकार उपस्थित रहे।

72960cookie-checkतरया सुजान पुलिस द्वारा शराब तस्करी के खुलासे की मजिस्ट्रेट जांच कराने की मांग