सखिनी गाव के ग्रामीण में आक्रोश –

Spread the love

सखिनी गाव के ग्रामीण में आक्रोश –
क्षेत्रीय विधायक व मंत्री से ग्रामीणों की अपील , अतिक्रमण पर लगाई जाए रोक!

बघौचघाट देवरिया।।
जनपद देवरिया विधानसभा पथरदेवा के थाना बघौचघाट क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम सभा सखिनी मे आज ग्रामीण आक्रोश में है। बतादे की विगत एक माह से दो पक्षो में विवाद चल रहा था। ग्राम सभा सखिनी निवासी ओमप्रकाश दुबे व लालू बैठा में विवाद दरवाजा सड़क व लिंटर कराने को लेकर कई बार पंचायत सम्भ्रांत लोगो के द्वारा की गई थी। परन्तु पंचायत की बात को न मानते हुए बिना दरवाजा बंद किए एक पक्ष ने रविवार को लिंटर करा लिया गांव के रहने वाले लालू बैठा ने इसका विरोध किया कि दरवाजा बंद करने के बाद ही लिंटर का कार्य होगा। सार्वजनिक सड़क पर दरवाजा खोलकर अतिक्रमण का मन्सा बनाये एक पक्ष ने दूसरे पक्ष की बात को नही माना और लिंटर का कार्य जोर जबरजस्ती से करा डाला सूचना पर पहुची बघौचघाट पुलिस ने दोनों पक्षो को थाने उठा लाई और मुकदमा लिखकर चलान कर दिया। समाचार प्रतिनिधि के द्वारा बात करने पर यह जानकारी हुई है कि लालू बैठा सड़क पर अतिक्रमण न हो इसके लिए ओमप्रकाश दुबे के मकान को लिंटर होने से मना कर रहे थे। हालांकि उसी सड़क को लेकर गांव के ही सम्भ्रांत लोगो के द्वारा कुछ दिन पहले एक बराबर मालिकाना हक देते हुए सड़क से तीन फीट तक कोई निर्माण कार्य न हो इसपर प्रतिबन्ध लगाया गया था। परन्तु बताया जा रहा है कि जिस मकान का लिंटर बीते दिन रविवार को किया गया उस छोटी मकान में दो दरवाजे खोले गए है और लिंटर होने के बाद सड़क से सीढिया भी बनानी है। हालांकि दोनों दरवाजे सड़क के तरफ ही है एक दरवाजा उतर की तरफ है तो दूसरा दरवाजा पश्चिम की तरफ है। और यह मामला आज कई साल पुराना भी चलता आ रहा है। पंचायत भी उतर के दरवाजे को अबतक महत्वपूर्ण नही समझ पा रही है। फिर भी सार्वजनिक लड़ाई लड़ने वाले व गांव के विकास में सहयोग करने वाले लालू बैठा को ग्रामीणों के प्रति मुकदमा झेलना पड़ा है जिस बात को लेकर गाव के ग्रामीण व कुछ सम्भ्रांत लोगो की नजर में ग़लत हुआ है। जिसको लेकर ग्रामीण व सम्भ्रांत लोगो ने क्षेत्रीय मंत्री व विधायक से रास्ते पर अतिक्रमण न हो इसके लिए समाचार पत्र के माध्यम से अपील कराई है व न्याय प्रिय कार्य सबके हित मे होनी चाहिए इसके लिए गुहार लगाई है।

ब्यूरो रिपोर्ट-

122240cookie-checkसखिनी गाव के ग्रामीण में आक्रोश –