देसी शराब की दुकान पर नकली शराब बेचने का आरोप

Spread the love

अमिट रेखा गोरखपुर
सत्य प्रकाश यादव

शासन द्वारा लोगों की सुविधा के लिए जगह-जगह देसी शराब की दुकान चलाने के लिए लाइसेंस जारी किया गया है और सभी दुकानदारों को सख्त निर्देश भी दिए गए हैं की बोतल पर जो प्रिंट रेट अंकित हों उसी दर पर बिक्री की जाए तथा किसी भी तरह की मिलावट खोरी ना की जाए ऐसा करते हुए जो भी दुकानदार मिले उनका लाइसेंस तुरंत निरस्त करते हुए उनके खिलाफ अबकारी अधिनियम के तहत कार्यवाही की जाए लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं जिन्हें इसका कोई असर नहीं है वह आसानी से मिलावट कर लेते हैं ताजा मामला खजनी थाना क्षेत्र के सतुआभार चौराहा आशापार चौराहा हो या खजनी के किसी भी सरकारी या देसी शराब की दुकान हो खुलेआम पब्लिक को लूटा जा रहा है वही पीने वालों का कहना है कि हर शीशी के पीछे 5 से ₹10 ले लेते है ! वही लोगों का यह भी कहना है कि यह कारोबार स्थानीय पुलिस की मदद से फल फूल रहा है जिसमें कहीं ना कहीं आबकारी विभाग भी इस धंधे में शामिल है ! लोगों का आरोप ये भी है की बोतल पर बंटी बबली लैला लिखा हुआ है जबकि उसके अंदर नकली नकली शराब डालकर सील लगा दिया जाता है ! इसका स्वाद अलग होने की वजह से पता चल जाता है कि इसमें मिलावट कर दी गई है पीने वालों का यह भी कहना है कि हम लोग 50 की जगह 55 से ₹60 देते हैं फिर भी दारू फिर भी शराब असली नहीं मिलती है ! कुछ लोगों ने तो यह भी आरोप लगा डाला कि भाजपा गवर्नमेंट में यह तो आम बात है जो ऊपर से नीचे तक सब लोग कर रहे हैं तो यह लोग क्यों पीछे रहें ! भक्तों का तो बल्ले बल्ले है खजनी थाने के अंतर्गत कुछ नहीं ऐसे बैठे होंगे जहां कच्ची शराब का धंधा ना होता हो

12900cookie-checkदेसी शराब की दुकान पर नकली शराब बेचने का आरोप