आरटीआई कार्यकर्ता सुमन्त दीक्षित ने प्रधान के जांच हेतु मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

Spread the love

अमिट रेखा

भटनी देवरिया। भटनी क्षेत्र के प्रसिद्ध आरटीआई कार्यकर्ता सुमन्त कुमार दीक्षित ने विकास खण्ड की ग्राम पंचायत मिश्रौली दीक्षित के प्रधान की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए सूबे के मुख्यमंत्री को जाँच हेतु एक पत्र पंजीकृत डाक से भेजा है।उन्होंने पत्र में कहा है कि निवर्तमान ग्राम प्रधान अनीता दीक्षित द्वारा अपने पूरे कार्यकाल मे खुली बैठक नियमानुसार नहीं कराई है,खुली बैठक के नाम पर सचिव महोदय प्रधान के दरवाजे पर बैठ इस खुली बैठक जैसी कार्यवाही को चुपके चुपके करते थे जो कि विधि विरुद्ध है।इस दौरान प्रधान पति मार्कण्डेय दीक्षित दो चार ख़ास लोगों का हस्ताक्षर कार्यवाही रजिस्टर में बनवा लेते थे।आरटीआई कार्यकर्ता ने यह भी लिखा है कि राज्य सरकार द्वारा ग्राम पंचायत की कार्यकारणी बैठक जो सरकार द्वारा हर तीसरे बुधवार को की जानी चाहिये वह कभी नहीं की गई।इसके साथ ही उन्होंने निर्माण कार्य समिति पर भी सवाल उठाए है और लिखा है कि इस समिति के जो अध्यक्ष व सदस्य हैं उन्हें पता ही नहीं है कि वे इस समिति के सदस्य हैं।जबकि ग्राम पंचायत के सारे निर्माण कार्य इनके ही सदस्यों की देख रेख में होना चाहिये।
आरटीआई कार्यकर्ता सुमन्त दीक्षित का कहना है कि अनिता दीक्षित के पूरे कार्यकाल में पंचायत राज नियमावली के पूर्णतः विपरीत ही कार्य हुआ है और कार्य भी मानक के विपरीत हुआ है जिसकी जाँच कराई जानी चाहिये और मांग की है कि खुली बैठक जब नियम के विपरीत आहूत की गई है तो उसमें लिखे गए प्रस्तावों पर किये गए कार्य को श्रमदान घोषित किया जाये।

25500cookie-checkआरटीआई कार्यकर्ता सुमन्त दीक्षित ने प्रधान के जांच हेतु मुख्यमंत्री को लिखा पत्र