July 16, 2024

नारायणी नदी के कटान के कहर से जूझ रहा महादेवा गांव 250एकड़ खेत नदी में बिलिन

Spread the love


मौके पर पहुंचे कुशीनगर डीएम एस राजलिंगम व खड्डा विधायक ने कटान का लिया जायजा
अमिट रेखा / ओमप्रकाश कुमार भास्कर /छितौनी /कुशीनगर
कुशीनगर जनपद के खड्डा तहसील क्षेत्र के महादेवा गांव में तेजी से हो रहे कटान का कहर जारी हैं फसल समेत नदी में समा गए 250एकड़ खेत लगभग कट नदी में बिलिन हो चुका है महादेवा गांव के किसानों के खेत में खडी धान,गन्ना और केले की फसल नदी की धारा मे विलीन हो गई हैं नारायणी नदी के जलस्तर घटने से कटान विकराल रुप धारण कर महदेवा की अस्तित्व खत्म होने की कगार पर।गांव के लोग बेघर होने के कगार पर। कटान रोकने में जुटे अफसर बेमतलब साबित हो रहे है ।
कुशीनगर जिलाधिकारी एस राजलिंगम मौके पर पहुंचकर नदी के कटान का निरीक्षण किया और मातहतों को आदेशित किया जिलाधिकारी से गामीण महिलाओं ने ठोस कदम उठाने की मांग करते हुए तार की जालियों मे पत्थर रखकर ठोकर बनाए जाने से नदी की धारा से ही गांव को कटान से मुक्ति मिलेगी और बाढ खंण्ड की जिम्मेदारी हैं बाढ रोकने की टेक्निकल उपाय जानती हैं अगर धन की कमी है तो बाढ़ खंड अवगत कराएं और उतना धन में सरकार से मुक्त कराने की भरपूर कोशिश करूंगा ।इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक जटाशंकर त्रिपाठी खड्डा उपजिलाधिकारी अरविंद कुमार, नायब तहसीलदार रवि कुमार यादव ,खड्डाथानाध्यक्ष, प्रधान प्रतिनिधि नथनी कुशवाहा और पूर्व प्रधान जितेंद्र निषाद,गांव के समस्त ग्रामीण लोग मौजूद रहे

78190cookie-checkनारायणी नदी के कटान के कहर से जूझ रहा महादेवा गांव 250एकड़ खेत नदी में बिलिन